यौगिक प्रयोग, सत्संग, ॐ की महिमा, dhyan

ध्यान (योग) – संत श्री आशारामजी बापू


संत श्री आशारामजी बापू

संत श्री आशारामजी बापू

ध्यान करने के लिए स्वच्छ जगह पर स्वच्छ आसन पे बैठकर साधक अपनी आँखे बंध करके अपने मन को दूसरे सभी संकल्प-विकल्पो से हटाकर शांत कर देता है। और ईश्वर, गुरु, मूर्ति, आत्मा, निराकार परब्रह्म या किसी की भी धारणा करके उसमे अपने मन को स्थिर करके उसमें ही लीन हो जाता है। जिसमें ईश्वर या किसीकी धारणा की जाती है उसे साकार ध्यान और किसीकी भी धारणा का आधार लिए बिना ही कुशल साधक अपने मनको स्थिर करके लीन होता है उसे योग की भाषा में निराकार ध्यान कहा जाता है। गीता के अध्याय-६ में श्रीकृष्ण द्वारा ध्यान की पद्धति का वर्णन किया गया है।

Standard
Mangalmay Channel

नज़रिया अपना


नज़रिया अपना

Sant Shri Asharamji Ashram

sant asharamji bapu Sant Asharamji Bapu

“नज़रिया अपना अपना,,
दो दोस्त एक आम के बगीचे के पास से गुज़र रहे थे की उन्होंने देखा कुछ बच्चे एक आम के पेड़ के नीचे खड़े हो कर पत्थर फेंक कर आम तोड़ रहे हैं।
ये देख कर दोस्त बोला कि देखो कितना बुरा दौर आ गया कि पेड़ भी पत्थर खाए बिना आम नही दे रहा है।
तो दुसरे दोस्त ने कहा नहीं दोस्त तुम गलत देख रहे हाे..
दौर तो बहुत अच्छा है की पत्थर खाने के बावजुद भी पेड़ आम दे रहा है।
दिल में ख़यालात अच्छे हो तो सब चीज अच्छी नज़र आती है, और
सोच बुरी हो तो बुराई ही बुराई नज़र आती है…
नियत साफ है तो नजरिया और नज़ारे खुद ब खुद बदल जाते है,,,।

View original post

Standard